Monday, January 24, 2011

||संत कबीर के दोहे||

                 न्हाये धोये क्या भया, जो मन मैल न जाय| 
                    मीन  सदा जल में  रहै, धोये  बास  न जाय||      
प्रेम  न  बाड़ी  ऊपजै,  प्रेम  न  हाट  बिकाय|
राजा  परजा  जेहि रुचे, सीस देई लै  जाय||  
साई  इतना  दीजिए,  जामें   कुटुम  समाय|
मैं  भी  भूखा  ना  रहूँ, साधु  न  भूखा  जाय||
धीरे  धीरे  रे  माना,  धीरे  सब  कुछ  होय|
माली सींचे सौ घड़ा, ऋतु आये  फल होय||
तेरा   साईं  तुज्झ्में, ज्यों  पहुपन  मैं   बास|
   कस्तूरिका मिरग ज्यों,फिर फिर सूंघे घास||
                      काम क्रोध मद  लोभ की,जब लगि घट में खान|
कहा  मुरख   कहा  पंडिता,  दोनों  एक  सामान||
साँच  बराबर  ताप  नहीं,  झूट  बराबर  पाप|
जाके   हिरदै   साँच   है,  ताके  हिरदै  आप||
ऐसी  बानी  बोलिए  मन  का  आप  खोय|
औरन कौं सीतल करै, आपहु सीतल होय||

31 comments:

  1. पुराने पन्ने याद आ गए स्कूल की किताब के....
    सालों बाद भी उतनी ही सही बात लगती है.....

    ReplyDelete
  2. आज भी ये शब्द जीवन जीने का तरीका बताते हैं. पुनः याद कराने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  3. ज़िन्दगी के सच याद दिलाने के लिया शुक्रिया..

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर सीख देते दोहे।

    ReplyDelete
  5. संत कबीर आज ही नहीं आने वाले कल में भी सार्थक रहेंगे ,बस लोग समझें और अमल करें तो लाभान्वित हो सकते हैं.संत कबीर आज ही नहीं आने वाले कल में भी सार्थक रहेंगे ,बस लोग समझें और अमल करें तो लाभान्वित हो सकते हैं.

    ReplyDelete
  6. हर शब्द सार्थक एवं जीवन मे उतारने के लिए है,
    आभार

    ReplyDelete
  7. संत कबीर के दोहे आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं जितने उनके काल में रहे होंगे !

    ReplyDelete
  8. कबीर साहेब सद्गुरु थे ! सदा रहे हैं सदा रहेंगे !

    ReplyDelete
  9. Hame to bahut hi achchi tarah yad hai ye dohe aaj bhi. Bahut badi seekh hai in chote chote dohe me..Aabhar

    ReplyDelete
  10. कबीर वाणी आज भी प्रासंगिक है. ... कौन कबीर मार्ग पर चल पाया ... उनके शब्दों के गूढ़ अर्थों को विरले ही समझ पाते हैं ..... और जो उनके "ढाई आखर प्रेम का .........." पढ़ पाया वह इंसानियत की अलख जगा रहा है आज ....... सुन्दर पोस्ट के लिए आभार.

    ReplyDelete
  11. bahut hi sunder pratuti...kabir ke dohe aaj bhi une hi prasngik hai.

    ReplyDelete
  12. आप सब को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  13. ऐसी बानी बोलिए मन का आप खोय|
    औरन कौं सीतल करै, आपहु सीतल होय||

    आज भी ये दोहे सुनते है तो चित शांत होता है ....

    ReplyDelete
  14. गणतंत्र दिवस की 62 वीं वर्षगाँठ पर आपको हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  15. Happy Republic Day..गणतंत्र िदवस की हार्दिक बधाई..

    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Download Free Latest Bollywood Music

    ReplyDelete
  16. हर पंक्ति एक अच्छे विचार को जन्म देती हुई रचना !

    बहुत सुन्दर विचार !

    गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  17. साँच बराबर ताप नहीं, झूट बराबर पाप|
    जाके हिरदै साँच है, ताके हिरदै आप...

    I very strongly believe in the above couplet.

    .

    ReplyDelete
  18. सुन्दर पोस्ट के लिए आभार.
    62वें गणतंत्र दिवस के पावन अवसर पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं।
    आभार।

    ReplyDelete
  19. बहुत सुन्दर सीख देते दोहे।
    62वें गणतंत्र दिवस के पावन अवसर पर आप को हार्दिक शुभकामनाएं।
    आभार।

    ReplyDelete
  20. ऐसी बानी बोलिए मन का आप खोय|
    औरन कौं सीतल करै, आपहु सीतल होय||

    बचपन की याद दिला दी .....

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर संकलन है आप का
    बहुत अच्छा लगा

    ReplyDelete
  22. bahut bahut badhai kabir ki prasangikata kal jitani thi aaj bhi utani hi hai

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर सीख देते दोहे।

    सार्थक प्रस्तुति,जी धन्यवाद।

    ReplyDelete
  24. कबीर आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं.....याद दिलाने का आभार !

    ReplyDelete
  25. Very good kept up. kabira kadha bhazar me sabki mang khair. Na kisi se dosti na kisi se bair.

    ReplyDelete
  26. प्रभावी संकलन .....

    ReplyDelete
  27. kabir ji ke dohe jivan ki sachai bayan karte hai bahut sunder post....

    ReplyDelete