Tuesday, January 11, 2011

"गिरिधरकी कुण्डलियाँ "

साईं बैर ना कीजिए, गुरु पंडित कवि  यार|
 बेटा बनिता पंवरिया,  यज्ञ  करावन हार || 
यज्ञ   करावन  हार  राज  मंत्री  जो  होई |

विप्र,  पडोसी,  वैध्य   आपको तपै  रसोई||
कह गिरिधर कविराय,युगनते यह चलिआई|
इन  तेरहसों  तरह  दिए  बनि  आवै  साईं ||
साईं   सब  संसार  में  मतलब का ब्यवहार| 
जब लग पैसा गांठ में, तब  लग ताको यार||
तब  लग  ताको  यार  संगही  संगमें   डोलें|
पैसा  रहा  न  पास  यार  मुखसे  नहीं बोलें||
कह गिरिधर कवी राय जगत यही लेखा भाई |
बिनु  बेगरजी  प्रीति  यार  बिरला कोई साईं  ||
साईं  घोड़े आछतहि   गदहन  आयो  राज| 
कौआ   लीजै   हाथ  में  दूरि  कीजिये  बाज||
दुरी  कीजिये   बाज  राज  पुनि  ऐसो  आयो |
सिंह  कीजिये  कैद  स्यार  गजराज  चढायो||
कह गिरिधर कविराय जहाँ यह बूझि  बधाई|
तहां  न  कीजै  भोर  साँझ  उठि चलिए साईं ||

30 comments:

  1. साईं सब संसार में मतलब का ब्यवहार|
    जब लग पैसा गांठ में, तब लग ताको यार||//
    वाह क्या बात है ...जय हो

    ReplyDelete
  2. बहुत उपयोगी सलाह गिरिधर कविराय की।

    ReplyDelete
  3. बहुत देर के बाद गिरिधर से सामना कराने के लिए आभार.

    ReplyDelete
  4. विद्यार्थी जीवन के बाद आज फिर गिरिधर कविराय की सीख देख कर खुशी हुयी,उन लोगों का ज्ञान दूरदर्शी था,हम सब के लिए आज भी उपयोगी है.प्रस्तुतीकरण के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  5. जब लग पैसा गांठ में, तब लग ताको यार||
    तब लग ताको यार संगही संगमें डोलें|
    पैसा रहा न पास यार मुखसे नहीं बोलें||
    कह गिरिधर कवी राय जगत यही लेखा भाई |
    बिनु बेगरजी प्रीति यार बिरला कोई |

    आज भी उतना ही सत्य और सार्थक है. बहुत दिनों बाद गिरिधर की रचना पढाने का सौभाग्य मिला..आभार

    ReplyDelete
  6. बहुत उपयोगी सलाह
    अनमोल वचन।

    ReplyDelete
  7. मकर संक्राति ,तिल संक्रांत ,ओणम,घुगुतिया , बिहू ,लोहड़ी ,पोंगल एवं पतंग पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. बड़े पुराने दिन याद आ गए ........शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  9. बहुत बढ़िया ........... बहुत अच्छा लिखा है । आभार जी !

    आपको एवं आपके परिवार को मकर संक्रान्ति की शुभकामनायेँ ।

    "गजल............आईँ थी जब सामने मेरे तुम"

    ReplyDelete
  10. "बिनु बेगरजी प्रीति यार बिरला कोई"


    बिनु बेगरजी प्रीति यार बिरला कोई साईं

    अंत में साईं शब्द छूट गया है.कृपया ठीक कर दीजिये अपनी पोस्ट पर.

    ReplyDelete
  11. गिरधर कविराय की कुंडलियां स्कूल के जमाने में पढ़ी थी,
    आज आपने याद ताजा़ करा दी।
    आपके लिए अशेष शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  12. आपकीक-एक दोहे प्रेरक एवं अनमोल हैं।

    ReplyDelete
  13. अनमोल सलाह ....आज भी प्रासंगिक है

    ReplyDelete
  14. bahut hi sundar post .kavi girdhar hon ya ghagh bharat ki dharohar hai

    ReplyDelete
  15. सक्रांति ...लोहड़ी और पोंगल....हमारे प्यारे-प्यारे त्योंहारों की शुभकामनायें......

    ReplyDelete
  16. गिरधर की कुण्डलिया पढ़कर हमारे स्कूल के दिनों की याद ताजा हो गयी . शुक्रिया .

    ReplyDelete
  17. जोशी जी , दोहों के माध्यम से सुंदर सलाह........... अच्छी प्रस्तुति.

    नये दशक का नया भारत ( भाग- २ ) : गरीबी कैसे मिटे ?

    ReplyDelete
  18. vaah ji.....aapne to hamara bhi dil jeet liya.....

    ReplyDelete
  19. इस विधा को जीवित रखने का धन्यवाद.मकर संक्रान्ती की बधाई.

    ReplyDelete
  20. bahut kuch seekhne ko hai is post mein. Thanks

    ReplyDelete
  21. स्कूल के दिन याद करवा दिए भाई.हिंदी के शिक्षक याद आ रहे हैं जिन्होंने कविराय को घोट घोट कर पिला दिया था .

    ReplyDelete
  22. गिरधर की कुण्डलिया पढ़कर हमारे स्कूल के दिनों की याद ताजा हो गयी .

    ReplyDelete
  23. बहुत सुन्दर है ये पोस्ट... गिरधर जी की कुण्डलियाँ ... ज्ञान का भण्डार ..धन्यवाद

    ReplyDelete
  24. yes we do remember our childhood with this blog...........now its our responsibility to keep girdhar ji alive for many many generations

    ReplyDelete
  25. aaj kal ki kitabo se to ye sab gayab kar diya baccho KI kitabo mein hai hi nahi ,pad ker bahut achchaa laga thanks a lot...............

    ReplyDelete