Saturday, April 30, 2011

भाई बहन

श्री गोपाल सिंह "नेपाली" जी की एक रचना,  भाई बहन|

तू चिंगारी बनकर उड़ री,  जाग- जाग में ज्वाला बनूँ :
तू   बन  जा  हृहराती  गंगा,  मैं   झेलम  बेहाल   बनूँ |

आज  बसंती  चोला  तेरा,  मैं  भी सज लूं,  लाल  बनूँ :
तू  भगिनी  बन क्रांति कराली, मैं भाई  विकराल बनूँ |

यहाँ   न   कोई   राधा   रानी,   ब्रिन्दावन ,  बंशीवाला:
तू  आँगन  की ज्योति बहन री, मैं  घर का पहरेवाला |

बहन  प्रेम  का पुतला हूँ  मै, तू  ममता  की गोद बनी:
मेरा  जीवन  क्रीडा-कौतिक, तू  प्रत्यक्ष  प्रमोद  बनी|

मैं   भाई   फूलों   में  भूला,  मेरी  बहन  विनोद  बनी: 
भाई की गति,मति भगिनी की दोनों मंगल-मोद बनी|

यह  अपराध   कलंक  सुशीले,  सारे  फूल जला  देना:
जननी की जंजीर बज रही, चल तबियत बहला देना| 

भाई  एक  लहर  बन आया, बहन  नदी  की  धारा  है:
संगम   है,   गंगा   उमड़ी   है,  डूबा  कुल  किनारा  है |

यह  उन्माद,  बहन  को  अपना  भाई  एक  सहारा है :
कह अलमस्ती ,एक  बहन ही  भाई  का  ध्रुबतारा  है |

पागल  घडी,  बहन-भाई  है,  वह  आजाद  तराना  है :
मुसीबतों  से  बलिदानों  से  पत्थर को  समझाना  है|

35 comments:

  1. श्री गोपाल सिंह "नेपाली" जी की यह रचना, वीर-रस से ओतप्रोत है।

    भावप्रवण कविता पढवाने का आभार, मित्र!!

    ReplyDelete
  2. भाई एक लहर बन आया, बहन नदी की धारा है:
    संगम है, गंगा उमड़ी है, डूबा कुल किनारा है |bahut sundar hai bhai bahan ke sambandhon ki vyakhya.

    ReplyDelete
  3. bahut sunder rachna hein bhaiya ji
    parastut kare ke liye aapka bahut bahut aabhar

    ReplyDelete
  4. blog par niymit nahi aa paya mafi chata hoon

    ReplyDelete
  5. मेरे नवोदित ब्लॉग पर आने एवं अपना बहुमूल्य कमेन्ट देने के लिए धन्यवाद , ऐसे ही आशीर्वाद देते रहें

    avinash001.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. अच्छी प्रस्तुति. गोपाल सिंह 'नेपाली' का काफी नाम सुना पर ज्यादा नहीं जानता. थोड़ा संक्षिप्त परिचय दे देते तो ....... बहरहाल. आभार ............. अनेकानेक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  7. नेपाली जी की इतनी सुंदर ओजपूर्ण कविता पढवाने का आभार ।

    ReplyDelete
  8. "कह अलमस्ती ,एक बहन ही भाई का ध्रुबतारा है'

    गोपाल सिंह जी के लेखन से मेरा परिचय करने के लिए बहुत धन्यवाद ..

    ReplyDelete
  9. आज बसंती चोला तेरा, मैं भी सज लूं, लाल बनूँ :
    तू भगिनी बन क्रांति कराली, मैं भाई विकराल बनूँ ..

    Beautiful lines !

    .

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब!
    बहुत दिन हो गए इसे कहे-सुने हुए!
    आभार आपका इसे याद दिलाने के लिए।

    ReplyDelete
  11. नेपाली जी की इतनी सुंदर ओजपूर्ण कविता पढवाने का आभार ।

    ReplyDelete
  12. यहाँ न कोई राधा रानी, ब्रिन्दावन , बंशीवाला:
    तू आँगन की ज्योति बहन री, मैं घर का पहरेवाला ...
    बहुत ओज़स्वी रचना है ... मधुर शब्दों में बँधी ...

    ReplyDelete
  13. दोस्तों, क्या सबसे बकवास पोस्ट पर टिप्पणी करोंगे. मत करना,वरना......... भारत देश के किसी थाने में आपके खिलाफ फर्जी देशद्रोह या किसी अन्य धारा के तहत केस दर्ज हो जायेगा. क्या कहा आपको डर नहीं लगता? फिर दिखाओ सब अपनी-अपनी हिम्मत का नमूना और यह रहा उसका लिंक प्यार करने वाले जीते हैं शान से, मरते हैं शान से (http://sach-ka-saamana.blogspot.com/2011/04/blog-post_29.html )

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन कविता....नेपाली जी की इस सुंदर ओजपूर्ण कविता के लिए आपका आभार ...

    ReplyDelete
  15. आप की बहुत अच्छी प्रस्तुति. के लिए आपका बहुत बहुत आभार आपको ......... अनेकानेक शुभकामनायें.
    मेरे ब्लॉग पर आने एवं अपना बहुमूल्य कमेन्ट देने के लिए धन्यवाद , ऐसे ही आशीर्वाद देते रहें

    आइये हम सब मिल कर खुदा से दुआ करते हैं........... ए खुदा इससे पहले कि मौत हमें रुसवा कर दे..तू हमारे जिस्म हमारी रूह को अच्छा कर दे......ये जो हालत है हमारी हमने ही बनाई है जैसा तू चाहता है अब वैसा कर दे. हमारे हर फैसले में तेरी रजा शामिल हो. जो तेरा हुक्म हो वो हमारा इरादा कर दे..... हममे जो बीमार हैं उनको तू शिफा दे............

    ReplyDelete
  16. wah bahut dino baad koi apne jesa likhne baala milaa.....
    bahut khub..
    ek link send kar rha hu dekh lijiyega..
    shayd aap ko acchi lage..
    http://amiajimkadarkht.blogspot.com/2011_02_07_archive.html

    ReplyDelete
  17. गोपाल सिंह जी से परिचय के लिए बहुत धन्यवाद !

    ReplyDelete
  18. यहाँ न कोई राधा रानी, ब्रिन्दावन , बंशीवाला:
    तू आँगन की ज्योति बहन री, मैं घर का पहरेवाला |

    श्री गोपाल सिंह "नेपाली" जी की यह रचना-प्रस्तुति के लिए आपका बहुत-बहुत आभार.

    ReplyDelete
  19. सुंदर कविता के लिए कवि और प्रस्तोता दोनो बधाई के पात्र हैं|

    ReplyDelete
  20. आदरणीय गोपाल सिंह नेपाली जी की ओजपूर्ण , भाई-बहन के मधुर संबंधों की सुन्दर कविता पढवाने का बहुत-बहुत आभार ....

    ReplyDelete
  21. शिथिल रगों में रक्त का संचार करती हुई,
    बहुत सुन्दर कविता पोस्ट की है आपने!
    --
    श्री गोपाल सिंह "नेपाली" जी की रचना पढ़वाने के लिए
    आपका बहुत-बहुत आभार.

    ReplyDelete
  22. पागल घडी, बहन-भाई है, वह आजाद तराना है :
    मुसीबतों से बलिदानों से पत्थर को समझाना है|
    नेपाली जी की इतनी सुंदर ओजपूर्ण कविता पढवाने का आभार....

    ReplyDelete
  23. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  24. इतनी सुंदर कविता पढवाने का आभार ।

    ReplyDelete
  25. बहुत अच्छी प्रस्तुति. के लिए आपका बहुत बहुत आभार

    ReplyDelete
  26. प्रभावी रचना .....

    ReplyDelete
  27. बेहतरीन कविता....नेपाली जी की इस सुंदर ओजपूर्ण कविता के लिए आपका आभार ... हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आने का धन्यवाद !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se

    ReplyDelete
  28. बहुत अच्छी कविता
    आपका आभार

    ReplyDelete
  29. बहुत सुन्दर , बहुत-बहुत आभार ....
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    ReplyDelete
  30. बेहतरीन कविता.....आपका आभार
    धन्यवाद जी, मैं ब्लॉग जगत में नया हूँ तो मेरा मार्गदर्सन करे..

    ReplyDelete
  31. इस कविता का लिंक मैं अपने फेसबुक पर शेयर कर रही हूं. काफी दिनों से इसा कविता की खोज में थी. आभार.

    ReplyDelete
  32. Bhoole hue kavi ki ek bhooli hui rachna ka uddhar kar aapney adbhut anand diya hame,hardik aabhaar aapka /
    sunder blog laga ,hame aise hi anandit kartey rahenge yah vishwas hai /sasneh
    dr.bhoopendra
    rewa
    mp

    ReplyDelete
  33. ओजपूर्ण प्रस्तुति ।
    बहुत सुन्दर ।

    ReplyDelete