Friday, May 6, 2011

कर्म ही कर्तव्य है

                 मानव-जीवन पाकर भी, भगवत्प्राप्ति का उद्देश्य समझकर भी मनुष्य दिग्भ्रमित क्यों रहता है? क्या जीवन उसे उसकी इच्छा से प्राप्त हुआ है? अमुक वंश या अमुक जाति में जन्म पाना मनुष्य के बस की बात नहीं है| फिर क्यों न मनुष्य जहाँ प्रभु की इच्छासे जीवन जीने का स्थान मिला, उसे ही अपनी कर्मभूमि समझ अपने योग्यतानुसार प्रभु कार्य में लगाकर अपना जीवन सफल करने का प्रयास करे|
                मनुष्य को जो कुछ भगवान ने दिया है उसके प्रति आभार ब्यक्त करने की अपेक्षा जो नहीं मिला उसे लेकर वह चिंतित तथा दु:खी रहता है|  भौतिक सुख-साधनों को सर्वोपरि  समझ कर परमार्थ को भूल जाता है| अपने जिम्मे आये कार्यों  को करना नहीं चाहता| केवल भोग भोगना चाहता है, कितनी बड़ी मूर्खता  करता है|
                एक किसान हल चलाता  और खेत की मिटटी को नरम कर उसमें बीज  डालता है| उसके पश्चात् प्राकृत या परमात्मा के अनुग्रह से फसल होती है तथा फल भी प्राप्त होता है| यदि भाग्य में नहीं होता तो वर्षा न होने या कम होने से लाभसे वंचित भी रह जाता है| मगर यदि मेहनत नहीं करेगा, बीज  नहीं बोएगा तो  कितनी ही अच्छी वर्षा से फल लाभ     दायक नहीं हो सकता | ईश्वर की सहायता भी तभी फली भूत होती है जब हम ने अपना कार्य किया हो| केवल आशावादी बनकर कर्म-विमुख जीवन निरर्थक है| बिना बीज बोए तो अनपेक्षित झाड़-झंखाड़ ही पैदा होंगे और शेष जीवन उन झाड़ियों के उखाड़ फेंकने में ही बीत जाएगा| (कल्याण में से)

40 comments:

  1. बिना बीज बोए तो अनपेक्षित झाड़-झंखाड़ ही पैदा होंगे और शेष जीवन उन झाड़ियों के उखाड़ फेंकने में ही बीत जाएगा............

    सार्थक आलेख.प्रेरक विचार.

    ReplyDelete
  2. कर्म ही श्रेष्ठ है

    ReplyDelete
  3. पढ़ो, समझो और करो.

    ReplyDelete
  4. कर्तव्‍य में वर्तनी 'ब्‍य' रखने का कोई खास कारण.

    ReplyDelete
  5. नेपाली जी की कविता तथा यह उद्धरण दोनों ही प्रेरक एवं अनुकरणीय हैं.

    ReplyDelete
  6. सार्थक प्रेरक विचार........

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रेरणा दी है आपने.
    प्रभु की कृपा हम सभी पर है,परन्तु कर्म हमारे ही हाथ में हैं.
    कर्म जीवन का सार है, जिसको तत्वज्ञान द्वारा समझा जा सकता है.जो कर्म के बारे में अनभिज्ञ रहता है उसे भटकन ही प्राप्त होती है.

    ReplyDelete
  8. apne blog ke maadhyam se aapke blog ka pata chala.pahli baar aapki rachnaayen padhi hain.bahut umda lagi.prerna daayak prastuti ke liye bahut bahut aabhar.aapke comment n wish ke liye haardik dhanyavaad.

    ReplyDelete
  9. बहुत समय तो झाड़ियाँ काटने में निकला जाता है।

    ReplyDelete
  10. बहुत सार्थक और प्रेरक आलेख..कर्म से आप मुख नहीं मोड़ सकते..

    ReplyDelete
  11. वाह एक ज़माना था जब मैं कल्याण व Bhawan's Journal का नियमित पाठक था... धीरे-धीरे न जाने कब छूट गईं ये पत्रिकाएं

    ReplyDelete
  12. पुराणों के अनुसार "जिस-जिस ने भी भगवान को प्राप्त किया केवल अपने कर्तव्य कर्म पर दृड़ रहकर ही प्राप्त किया"

    ReplyDelete
  13. बहुत सार्थक और बहुत बढ़िया पोस्ट

    ReplyDelete
  14. बहुत दिन बाद आया आपके ब्लॉग पर क्या करे इम्तेहान चल रहे है

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर और सार्थक आलेख प्रस्तुत किया है आपने! उम्दा पोस्ट!

    ReplyDelete
  16. प्रेरक पोस्ट ....

    आपकी शुभकामनायें मिलीं ...आभार

    ReplyDelete
  17. क्या जानदार बात कही है आपने धन्य है आप।

    ReplyDelete
  18. कर्मशील जीवन ही श्रेयस्कर है।
    सार्थक और जीवनोपयोगी विचार।

    ReplyDelete
  19. मदर्स डे की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  20. बहुत सुन्दर और सार्थक प्रेरणा दी है आपने

    ReplyDelete
  21. कर्म सबसे बड़ा है ... इसलिए हर मानव का कर्तव्य है ...

    ReplyDelete
  22. मातृ दिवस की हार्दिक शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  23. सार्थक और जीवनोपयोगी विचार है !

    ReplyDelete
  24. केवल आशावादी बनकर कर्म-विमुख जीवन निरर्थक है| बिना बीज बोए तो अनपेक्षित झाड़-झंखाड़ ही पैदा होंगे और शेष जीवन उन झाड़ियों के उखाड़ फेंकने में ही बीत जाएगा| (
    jai baba banaras....

    ReplyDelete
  25. सार्थक आलेख ,कर्म की महत्ता दर्शाता ......आभार !

    ReplyDelete
  26. बहुत सही लिखा आपने. पर लोग समझते नहीं कि कर्म ही कर्तव्य भी हो सकता है.

    दुनाली पर पढ़ें-
    कहानी हॉरर न्यूज़ चैनल्स की

    ReplyDelete
  27. "बिना बीज बोए तो अनपेक्षित झाड़-झंखाड़ ही पैदा होंगे और शेष जीवन उन झाड़ियों के उखाड़ फेंकने में ही बीत जाएगा"

    ReplyDelete
  28. कर्म ही जीवन में प्रधान है. फल का पता करने वाले को ही हो तो हो. बहुत अच्छा लिखा है आपने.

    ReplyDelete
  29. ise padhkar ek kavita bachpan ki yaad aa gayi jo pathya pustak me rahi ------
    prabhu ne kar tumko daan diya
    sab vaanchhit vastu vidhan diya
    tum prapt karo inko na aho
    phir hai kiska yah dosh kaho ,
    nar ho na niraash karo man
    kuchh kaam karo kuchh kaam karo
    jag me rahkar kuchh naam karo .......

    ReplyDelete
  30. सत्यता के दर्शन कराती हुई आपकी यह पोस्ट सराहनीय है...धन्यवाद

    ReplyDelete