Thursday, February 10, 2011

स्वर्ग से मेले तक


इस बेकारी ने इस लोक तो क्या,  स्वर्ग  लोक तक दिखा दिया|
मज़बूरी से आवेदन पत्र पर, हमने भी अपना नाम लिख दिया||
सुना   है  स्वर्ग   में  पोस्टों  का,   एक  खुला   बम्पर  आया|
एक  - एक   करके   लाइन   से,  हमारा   भी   नंबर   आया||
घूमती कुर्सी  में बैठे यमराज, एक - एक करके  बुला  रहे हैं|
नुक्स  गलतियाँ  कई बता कर, बेरोजगारों  को  रुला रहे  हैं||
बोले- तुम्हारे पोस्टल आर्डर में, डेट ठीक से नहीं चढ़ी हुई है|
वैसे  भी  इस  पोस्ट  के  लिए,   तुम्हारी  उम्र  बढ़ी  हुई  हैं|| 
बोले कितने ही काल अकाल से, यहाँ भी अब भीड़ बढ़ चुकी है|
यहाँ  भी  बेकारी,  भुखमरी  की, गहरी  साज  गढ़  चुकी  है||
जाओ एक बार कर्म के मन्दिर में,फिर से माथा टेक के आओ|
वहां  लगा  है  सुन्दर  मेला,  उसका  ताँता  देख  के  आओ||
देखा  लौट के  इस जहाँ  में, बेकारी  का  मेला लगा हुआ है|
इस भीड़  में उपद्रव का, जगह जगह पर झमेला लगा हुआ है||
कहीं  सपेरा  मरे  सांप के ऊपर, अपनी बीन बजा  रहा है|
बन्दर वाला लाठी के बल पर,भूखे बन्दर को नचा रहा है||
दशा   दृश्य   मेले   की   देख,   कहीं   हम  रो  न   जाएँ|
डर   है   इस   मेले   में  आज,  कहीं   हम  खो  न  जाएँ||

32 comments:

  1. यमराज दरबार और इस लोक पर बेरोजगारी का व्यंगात्मक व सटीक चित्रण. एक अच्छी कविता के लिए आभार.

    ReplyDelete
  2. यही मेला है साहब....कभी मदारी जानवर को नचाता है तो कभी बन्दर मदारी को....
    सोचने वाली बात है....

    नमस्कार.

    ReplyDelete
  3. विचारणीय ....व्यंगात्मक पंक्तियाँ....

    ReplyDelete
  4. देखा लौट के इस जहाँ में, बेकारी का मेला लगा हुआ है|
    इस भीड़ में उपद्रव का, जगह जगह पर झमेला लगा हुआ है||
    सुन्दर व्यंग।

    ReplyDelete
  5. क्या करे साहब इसी मेले मे जीना है
    बहुत अच्छा व्यंग किया है
    शुभकामनाये

    ReplyDelete
  6. सटीक व्यंग्य....

    ReplyDelete
  7. प्रियवर
    नमस्कार !

    अच्छी व्यंग्य रचना है…
    यहाँ भी बेकारी, भुखमरी की, गहरी साज गढ़ चुकी है
    स्वर्ग में भी यही सब … !
    बढ़िया है

    बसंत पंचमी सहित बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई और मंगलकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  8. बेकारी पर व्यंग्य करती सुंदर कविता .
    अकेली बेकारी हो तो भी चले यहाँ भाई-भतिजाबाद कोढ़ में खाज जैसी स्थिति पैदा करती है . नौकरी पैसे वालों को और सिफारिश वालों को मिलती है .
    ----sahityasurbhi.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. व्यंग्य करती सुंदर कविता .

    ReplyDelete
  10. बेरोजगारी पर अच्छी कविता है। वस्तुतः आज स्थिति ही ऐसी ही है।


    आप "वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर" पर पधारे, एवं बधाई दी एतदर्थ धन्यवाद!

    आप भी इस कार्य में अपना अमूल्य योगदान दें। तथा हमें सूचित करें। आपक एक कदम हमारे लिये संजीवनी साबित होगा।

    ReplyDelete
  11. बहुत अच्छा व्यंग किया है ........बसंत ॠतु की हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  12. वाह, बढ़िया व्यंग्य है।

    ReplyDelete
  13. आज के समाज को दर्शाती एक उम्दा पोस्ट....

    ReplyDelete
  14. डॉ. दिव्या श्रीवास्तव ने विवाह की वर्षगाँठ के अवसर पर किया पौधारोपण
    डॉ. दिव्या श्रीवास्तव जी ने विवाह की वर्षगाँठ के अवसर पर तुलसी एवं गुलाब का रोपण किया है। उनका यह महत्त्वपूर्ण योगदान उनके प्रकृति के प्रति संवेदनशीलता, जागरूकता एवं समर्पण को दर्शाता है। वे एक सक्रिय ब्लॉग लेखिका, एक डॉक्टर, के साथ- साथ प्रकृति-संरक्षण के पुनीत कार्य के प्रति भी समर्पित हैं।
    “वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर” एवं पूरे ब्लॉग परिवार की ओर से दिव्या जी एवं समीर जीको स्वाभिमान, सुख, शान्ति, स्वास्थ्य एवं समृद्धि के पञ्चामृत से पूरित मधुर एवं प्रेममय वैवाहिक जीवन के लिये हार्दिक शुभकामनायें।

    आप भी इस पावन कार्य में अपना सहयोग दें।
    http://vriksharopan.blogspot.com/2011/02/blog-post.html

    ReplyDelete
  15. क्या बात है आपकी

    बहुत सुंदर कविता

    ReplyDelete
  16. मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    "हट जाओ वेलेण्टाइन डेे आ रहा है!".

    ReplyDelete
  17. सुन्दर हास्य कविता.

    ReplyDelete
  18. वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर said...

    डॉ. डंडा लखनवी जी के दो दोहे

    माननीय डॉ. डंडा लखनवी जी ने वृक्ष लगाने वाले प्रकृतिप्रेमियों को प्रोत्साहित करते हुए लिखा है-

    इन्हें कारखाना कहें, अथवा लघु उद्योग।
    प्राण-वायु के जनक ये, अद्भुत इनके योग॥

    वृक्ष रोप करके किया, खुद पर भी उपकार।
    पुण्य आगमन का खुला, एक अनूठा द्वार॥

    इस अमूल्य टिप्पणी के लिये हम उनके आभारी हैं।

    http://pathkesathi.blogspot.com/
    http://vriksharopan.blogspot.com/

    ReplyDelete
  19. Mela Madai Mere Raipur Main Shuru Ho Rahen Hain

    ReplyDelete
  20. लाठी के बाल..लाठी के बल
    आपनी बीन..अपनी बीन

    कहीं सपेरा मरे सांप के ऊपर, अपनी बीन बजा रहा है|
    ..सुंदर पंक्ति।

    ReplyDelete
  21. hmmmm very nice words aacha lagaa read kar ke,...:D

    Keep Visit my Blog Plz... :D
    Lyrics Mantra
    Music Bol

    ReplyDelete
  22. गजब का प्रस्तुतीकरण !
    बधाई ।

    ReplyDelete
  23. दुनिया के मेले की जिन्‍दा तस्‍वीर.

    ReplyDelete
  24. बेकारी पर व्यंग्य करती सुंदर कविता क्या
    खूब लिखा है आपने
    ढेर सारी शुभकामनाये!!

    ReplyDelete
  25. बहुत संवेदनशील हैं आप .......शुभकामनायें !

    ReplyDelete