Friday, December 3, 2010

दोषी कौन ?

बहुत खोया,                                   
मैं क्यों रोया?
मैंने माना-मेरा  दोष,
मुझ को जिनसे रोष था,
आज उनकी बेबसी पर,
और अपनी बेबसी पर,
मुझ को भान आया,
मेरा साया ही मेरा दोष,
मेरा अपना दोषी,    
मैं ही बेकस-खुद का था,
                            मैं खुद का दोषी|

15 comments:

  1. बहुत सच कहा है..अपनी बेबसी और असफलता के हम स्वयं ही दोषी हैं..सुन्दर प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  2. Thanks for visiting my blog AchchiKhabar

    Kya aap khud ye kavitayen likhti hain...bahut achchi baat hai.

    ReplyDelete
  3. यह तो इंसान कि फितरत है .....शुक्रिया
    चलते -चलते पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  4. aisa lagta hai jaisey kahi kuch shesh rh gaya hai.....
    abhaar.........

    ReplyDelete
  5. sankhsipt kintu prabhavshali kavita.. bahut badhiya.. wonderful

    ReplyDelete
  6. मैं ख़ुद का दोषी, सुन्दर अभिव्यक्ति। बधाई।

    ReplyDelete
  7. दोषी हम नहीं हमारा अज्ञान दोषी है, अविद्या दोषी है, हम तो अभी खुद से परिचित ही नहीं हैं, मिलो तो जानो !

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना ...

    मैं ही बेकस-खुद का था,
    मैं खुद का दोषी|

    ReplyDelete
  9. मैंने अपना पुराना ब्लॉग खो दिया है..
    कृपया मेरे नए ब्लॉग को फोलो करें... मेरा नया बसेरा.......

    ReplyDelete
  10. बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय
    जो दिल खोजा आपना, मुझसा बुरा ना कोय.
    मिलते-जुलते भावों पर बनी आपकी रचना. उत्तम शब्द संरचना.
    मेरी नई पोस्ट 'भ्रष्टाचार पर सशक्त प्रहार' पर आपके सार्थक विचारों की प्रतिक्षा है...
    www.najariya.blogspot.com नजरिया.

    ReplyDelete
  11. वाह क्या लिखा है आपने मैं खुद का दोषी...... बहुत ही अच्छी लगी ये पंक्ति तो.

    ReplyDelete
  12. मेरे ब्लॉग "एक्टिवे लाइफ" पर आने के लिए दिल से धन्यवाद ...

    कविता बहुत सुन्दर है !

    ReplyDelete