Friday, December 24, 2010

" वेद-दर्शन "

                                  माँ के आँचलमें जिस प्रभुने,  सद्य  प्रवाहित की  पय- धारा |
                                   क्षिति, पावक, आकाश, पवन रच पैदा की निर्मल जल धारा||
                                   श्रृष्टि   चलाने  हेतु  प्रभु  से,   प्रगटी    वेद-ज्ञान- श्रुति-धारा|
रूप  ऋचा पाया  ऋषिगणसे,  पुस्तक  रूप  ब्यासके   द्वारा||
पारायण  ऋग्वेद  यदि  करें ,  सृष्टिका  विज्ञान  प्राप्त  हो|
याजुर्वेद्का  मनन  करें  तो, अन्तरिक्षका  मर्म ज्ञात  हो||
छंद  बताते  सामवेदके ,  सरल  उपासन  मार्ग    ब्रह्मका |
ज्ञान अथर्वनका जब पायें, स्वस्थ्य बढे इस सारे जग का||
ब्राह्मन, शास्त्र,  पुराण,  अरण्यक,  पावन  है  सोपान वेदके|
शिरोभाग उपनिषद अवस्थित,मुकुट-मणि-सम वेद-ज्ञानके||
मीमांसा, वेदान्त योग यह,  न्याय, वेशेषिक और सांख्य है|
सुखमय जीवन-दर्शनका यह, छ: शास्त्रों का सुलभ मार्ग है||
ईशावास्य, केन, कंठ, मुण्डक,श्वेताश्र्वतर,माण्डुक्य, प्रश्न है|
ब्रह्दारन्य,छान्दोग्य उपनिषद,तैत्तिरीय ऐतरेय, वेद-सर हैं||
सुरभाषामें   काव्य-रूपमें,  ऋषि-अर्जित  वेदाम्रित  न्यारा|
प्रभु-प्रदत्त इस ज्ञान-राशिसे, वंचित रहे ना यह जग सारा||
माँ की   भाषामें   जन-जनमें, पहुंचे  ज्ञानामृतकी   धारा|
वेद-ज्ञान,  लय-रूप  प्राप्त  हो,  यह  ही  है उद्देश्य हमारा||
                       (कल्याण में से)

23 comments:

  1. बहुत अच्छी प्रस्तुति। बहुत देर से कल्यान नही पढी। अब केवल वार्षिक विशेशाँक ही ले रही हूँ। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  2. बहुत प्रभावशाली प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति , कल्याण के बारे में याद दिलाने के लिए धन्यवाद.

    ReplyDelete
  4. प्रभावशाली प्रस्तुति !!!

    ReplyDelete
  5. कल्याण पत्रिका सच ही कलायन कारी है ..आभार

    ReplyDelete
  6. जबाब नहीं निसंदेह ।
    यह एक प्रसंशनीय प्रस्तुति है ।
    धन्यवाद । साधुवाद । साधुवाद ।
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  7. वेदों का दर्शन सदा ही अभिभूत करता है।

    ReplyDelete
  8. 'कल्याण'तो वास्तव में कल्याण का कार्य करती है।

    ReplyDelete
  9. जबाब नहीं निसंदेह ।

    ReplyDelete
  10. mhoday
    aapki sbhi post dekhi . bhut umda our gyan vrdhak hai . aabhari hu jo aap mere blog pr aaye .isi prkar utsah bdhate rhiyega our koi glti ho to btte rhe .
    dhnywaad .

    ReplyDelete
  11. बहुत ही सुंदर वेद दर्शन...... कल्याण पत्रिका वाकई अच्छे भक्तिपूर्ण विषय प्रस्तुति करती है ......
    फर्स्ट टेक ऑफ ओवर सुनामी : एक सच्चे हीरो की कहानी

    रमिया काकी

    ReplyDelete
  12. सुन्दर वेद दर्शन हेतु आभार.
    अच्छा ब्लॉग है आप का.
    नैतिक सन्देश लिए लेख और कहानी भी पढ़ीं.

    ****नव वर्ष २०११ के लिए हार्दिक मंगलकामनाएं !*****

    ReplyDelete
  13. उम्दा पोस्ट !
    सुन्दर प्रस्तुति..
    नव वर्ष(2011) की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  14. अच्छी प्रस्तुति।
    "नूतन वर्ष की हार्दिक शुभ-कामनाओं के साथ "

    ReplyDelete
  15. नए साल पर आप सभी लोगों को ढेर सारा प्यार और नव वर्ष - 2011 की खूब बधाई !!

    ReplyDelete
  16. आदरणीय ब्लागमित्र

    नमस्कार और नये साल 2011 की शुभकामनाऐं

    ReplyDelete
  17. आपके जीवन में बारबार खुशियों का भानु उदय हो ।
    नववर्ष 2011 बन्धुवर, ऐसा मंगलमय हो ।
    very very happy NEW YEAR 2011
    आपको नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें |
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  18. मैं भी कल्याण को पढ़ कर बड़ी हुई हूँ . फिर से याद दिलाने के लिए धन्यवाद .

    ReplyDelete