Tuesday, October 12, 2010

'इश्के हकीकी'

                                               'नूह' साहब ने फरमाया  है:-


इश्के  हकीकीके लिए इश्के मजाज़ी है ज़रूर,            
वे  वसीला  कहीं बन्देको  खुदा  मिलता है|
'नूह'  काबे मे नज़र आया न बुत भी कोई,
लोग  कहते थे कि काबेमें खुदा मिलता है|
हर तलबगारको मेहनत का सिला मिलता है,
बुत है क्या चीज  कि ढूंढेसे  खुदा  मिलता है|
यह नूर का जलवा है,हर बार नहीं होता ;
हर बार हसीनों का दीदार नहीं होता|

9 comments:

  1. हर तलबगारको मेहनत का सिला मिलता है,
    बुत है क्या चीज कि ढूंढेसे खुदा मिलता है|
    Baat sach hai or aapka kehna sahi hai
    sunder post

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. "हर तलबगारको मेहनत का सिला मिलता है,
    बुत है क्या चीज कि ढूंढेसे खुदा मिलता है|"

    सुंदर प्रस्तुति. आभार.
    सादर
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर| धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. सुंदर अभिव्यक्ति. आपके ब्लाग पर आकर अच्छा लगा..
    ....
    ऑनलाइन क्विज में भाग लेकर एक माह में लाख रुपये जीतने के शानदार मौके की जानकारी के लिये यहां पधार सकते हैं - http://gharkibaaten.blogspot.com

    ReplyDelete
  6. इतनी सुन्दर मर्मस्पर्शी रचना से परिचय करने के लिए धन्यवाद...आभार..

    ReplyDelete