Wednesday, October 27, 2010

आत्मप्रेरणा

                                   चलना है अगर,
जीवन  के बीहड़ राहों में ,                             
खुद से पहले वादा कर लो|
मंजिल मिले या ना मिले,
चलते रहना क्या कम है,
आज तुम खुद से ये वादा कर लो|
जीना है अगर,
आंसुओं को छुपा लो,
चेहरे पर हँसी,
होंठों पर गीत सजा लो|
बनना है अगर कुछ
                                   मिटाना पड़ेगा जिन्दगी को कुछ,
                                   बाहर अँधेरा ही सही,
                                   अपने अन्दर दीप जला लो|
                                   चलना है अकेले ही,
                                   फिर तलाश  क्यूँ है किसी की,
                                   अपनी  आत्मप्रेरणा को ही साथी बना लो|

21 comments:

  1. बहुत ख़ूब , शुभकामनायें

    ReplyDelete
  2. यह आत्मविश्वास जरूरी है ज़िन्दगी में आगे बढ़ने के लिए....

    मेरे ब्लॉग पर इस बार

    उदास हैं हम ....

    ReplyDelete
  3. फिर तलाश क्यूँ है किसी की,
    अपनी आत्मप्रेरणा को ही साथी बना लो|
    sunder pryash.
    prerit krti uprokt panktiyon hetu abhaarrrrrrrrr.

    ReplyDelete
  4. बहुत प्रेरक अभिव्यक्ति...आभार..

    ReplyDelete
  5. बहुत खूब आत्मविश्वास से भरी प्रस्तुति
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  6. फिर तलाश क्यूँ है किसी की,
    अपनी आत्मप्रेरणा को ही साथी बना लो|
    isse behatar saathi ho bhi koun sakata hai.... bhut achhi parstuti....

    ReplyDelete
  7. bhut hi sargrbhit our prernadayk rchna . aisi rchnaye sdaiv swagat yogy rhengi .
    bdhai .

    ReplyDelete
  8. मेरे ब्लॉग पर इस बार चर्चा है जरूर आएँ...लानत है ऐसे लोगों पर ....

    ReplyDelete
  9. thankx for ur comment of my article n your write up is inspiretion for everyone.

    ReplyDelete
  10. सराहना के लिए धन्यवाद. विचारों की सहमती ही कविता की सार्थकता है.

    ReplyDelete
  11. utprerak likha hai.....padke acha laga

    ReplyDelete
  12. Bahut hee prerana daayee rachana, bahut khoob.....b

    ReplyDelete
  13. bahut umda aur saarthak kavita............

    achha laga baanch kar............

    ReplyDelete
  14. Highly motivating poem! Everything comes from within and nothing comes from without. Great message for readers.

    ReplyDelete
  15. ख़ुद से पहले वादा करो ,मन्ज़िल मिले ना मिले।

    क़ाबिले-तारीफ़ ।

    ReplyDelete
  16. ब्लॉग या वेबसाइट से कमाओ हजारो रुपये...

    To know more about it click on following link...

    http://planet4orkut.blogspot.com/2010/08/blog-post_9159.html

    ReplyDelete
  17. aapki kawita phir se chalne ko prerit karti hai.

    ReplyDelete