Sunday, March 6, 2011

माँ की लोरियाँ

माँ की आवाज 
अंधेरों में सोते से 
अचानक जगाती है 
वह माँ जो मुझे 
लोरियां गाकर सुनती थी,
आज अकेले में गाकर दो पंक्तियाँ 
स्वयं को सहज पाती है 
इतनी दूर से भी उसका स्पर्श 
वो हाथ, वो बात, वो लोरियां 
सब कुछ याद आता है 
तो मेरा ह्रदय अचानक ही 
द्रवित हो जाता है 
आंसू छलकते हैं आँखों से
मन उदास और उदास हो जाता है
चाहता हूँ मैं भी कि संग रहूँ सब के 
पर सोचते- सोचते ही  सबेरा हो जाता है 
और पुन: नवीन दिवस के साथ 
नवीन कल्पनाएँ संजोने लगता हूँ
रात में फिर माँ की, लोरियों की             
यादों में खोने लगता हूँ|

57 comments:

  1. माँ की लोरियों की सुन्दर यादें।

    ReplyDelete
  2. सच, माँ याद आ गयी
    आपकी इस कविता को नमन
    शुभकामनाये स्वीकार करे

    ReplyDelete
  3. माँ की लोरिया सदा सर्वदा प्रासंगिक है आपने तो मुझे मेरी माताजी की याद दिलादी है जो अब हमारे पास नहीं है वो अब भगवान्जी के पास है !

    ReplyDelete
  4. माँ की आवाज
    अंधेरों में सोते से
    अचानक जगाती है
    वह माँ जो मुझे
    लोरियां गाकर सुनती थी.........

    मेरा ह्रदय अचानक ही
    द्रवित हो जाता है
    आंसू छलकते हैं आँखों से
    मन उदास और उदास हो जाता है
    चाहता हूँ मैं भी कि संग रहूँ सब के
    पर सोचते- सोचते ही सबेरा हो जाता है
    और पुन: नवीन दिवस के साथ
    नवीन कल्पनाएँ संजोने लगता हूँ
    रात में फिर माँ की, लोरियों की
    यादों में खोने लगता हूँ|

    बहुत सुन्दर लिखा है आपने"माँ की लोरियाँ" पढ़कर माँ की याद आ गई है! इस पवित्र रिश्ते के अहसास जो आपकी कलम ने और भी खूबसूरत कर दिया है!

    ReplyDelete
  5. आदरणीय Patali-The-Village जी,
    तारीफ के लिए शब्द नही है!

    ReplyDelete
  6. सुंदर ममतामयी भाव लिए रचना

    ReplyDelete
  7. 'वह माँ जो मुझे
    लोरियां गाकर सुनती थी,
    आज अकेले में गाकर दो पंक्तियाँ
    स्वयं को सहज पाती है'

    माँ के अस्तित्व के बारें में ये पंक्तियाँ खून के आँसू रुलाती हैं.

    ReplyDelete
  8. Maan ka madhur ehsaas liye ... lajawab rachna ...

    ReplyDelete
  9. सुंदर प्रस्तुति ! बिलकुल माँ से मिलती-जुलत,
    माँ को समर्पित उपरोक्त रचना हेतु आभार ,

    ReplyDelete
  10. माँ की लोरियां ... सुन्दर यादें....

    ReplyDelete
  11. एकान्त ही मनुष्य का अपना है। स्व की तलाश भी उसी में सम्भव।

    ReplyDelete
  12. मॉ शब्द ही भावनाओं का तूफान ला देता है उसपर मॉ की लोरियॉ...अप्रतिम अनुभूति। सुन्दर अभिव्य़क्ति।

    ReplyDelete
  13. maa ki pooja rab ki pooja, maa to rab ka naam hai dooja

    acchi lagi poem
    shukriya

    ReplyDelete
  14. मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है
    "गौ ह्त्या के चंद कारण और हमारे जीवन में भूमिका!".

    आपके सुझाव और संदेश जरुर दे!

    ReplyDelete
  15. very nice lalsingh Swabhimaan Times

    ReplyDelete
  16. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 08-03 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    http://charchamanch.uchcharan.com/

    ReplyDelete
  17. लोरियां गाकर सुनती थी,
    आज अकेले में गाकर दो पंक्तियाँ
    स्वयं को सहज पाती है

    ये शब्द नहीं ... दिल में बसे आंसू हैं ... बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  18. माँ पर लिखकर माँ की याद दिलादी आपने. सुन्दर रचना . बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  19. सुन्दर अभिव्य़क्ति...

    ReplyDelete
  20. माँ के ऊपर लिखी कविता मार्मिक और ममतामयी है.
    महिला दिवस की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  21. बहुत मर्मस्पर्शी सुन्दर प्रस्तुति..माँ की लोरी कौन भूल पाता है..

    ReplyDelete
  22. wah wah bouth he sunder post hai aapka .. thx

    Visit My Blog PLz..
    Download Free Music
    Lyrics Mantra

    ReplyDelete
  23. जीवन मे माँ से बडा
    और नही वरदान
    माँ चरणों की धूल ले
    खुश होंगे भगवान।
    लोरियाँ माँ की याद दिला ही देती हैं। जब अपने नाती नातिन को सुनाती हूँ तो माँ और दादी याद आ जाती हैं इस उम्र मे भी। सच माँ जैसा कोई नही।

    ReplyDelete
  24. अच्‍छी रचना।
    शुभकामनाएं आपको।

    ReplyDelete
  25. maa to maa hoti hai uski yaaden uaska saath jivan me hamesha hi hame sambal deta hai .maa ki har aawaj uske kahe .bataye har shabd hriday me hamesha hi gunjaymaan hote rahte hain .aapki rachn abehad dll ko bhai .
    aapko itni sundar bhavabhivyakti ke liye bahut bahut badhai
    dhayvaad----
    poonam

    ReplyDelete
  26. माँ की याद दिला दी आपने ।

    ReplyDelete
  27. e maa teri surat se alag bhagwan ki surat kya hogi

    bhawuk karne wali rachana. dhanywad

    ReplyDelete
  28. बहुत ही आसान शब्दों में मन की एक गहरी आस या कहूँ चाह को कह दिया आपने....बड़ी ही प्यारी कविता..

    ReplyDelete
  29. maaaa ki lori aakhiri saans tak yaad aati rahegi.
    bhavpoorn rachna..

    ReplyDelete
  30. मर्म स्पर्शी बड़ी ही प्यारी रचना....
    सच, माँ की याद आ गयी
    आपकी इस कविता को नमन
    शुभकामनाये स्वीकार करे

    ReplyDelete
  31. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने ! बेहतरीन प्रस्तुती! बधाई!

    ReplyDelete
  32. बहुत सुन्दर ...बहुत प्यारी रचना है

    ReplyDelete
  33. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति.
    सलाम.

    ReplyDelete
  34. mother is the synonym of creation.u have write a great work,congrats

    ReplyDelete
  35. होली की अपार शुभ कामनाएं...बहुत ही सुन्दर ब्लॉग है आपका....मनभावन रंगों से सजा...

    ReplyDelete
  36. Mata ki yad dilanen me saksham ye kavita...poori tarah bhav vibhore kar gayi

    ReplyDelete
  37. मां की लोरियां... सृष्टि का सबसे पावन गीत।
    बहुत सुंदर कविता।

    ReplyDelete
  38. इतनी दूर से भी उसका स्पर्श
    वो हाथ, वो बात, वो लोरियां
    सब कुछ याद आता है
    माँ के प्यार भरे स्पर्श को कभी भुलाया नहीं जा सकता....

    ReplyDelete
  39. बहुत सुन्दर ।

    ReplyDelete
  40. मां तो बस मां है... मां से बढकर जीवन में क्या है.....

    ReplyDelete
  41. माँ पर लिखी एक अनुपम कविता भाई बधाई |होली की शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  42. और पुन: नवीन दिवस के साथ
    नवीन कल्पनाएँ संजोने लगता हूँ
    रात में फिर माँ की, लोरियों की
    यादों में खोने लगता हूँ|
    maa to maa hi hoti hai uski mamta shabdo me bayan nahi ho pati .ati sundar .

    ReplyDelete
  43. जो माँ लोरिया गा करके सुलाती थी अपने बच्चे को आज के बच्चे उन्हें भूलते जा रहे हैं आज के बच्चो को माँ को लोरिओं पर नीद नहीं आती है अब उन्हें सकिरा के गानों पे नीद आती है |
    वैसे मै भी कोई बहुत उम्र वाला इंसान नहीं हूँ लेकिन जिस उम्र का हूँ उस उम्र वाले की नीयत तो जानुगा ही |
    आप की कविता पढ़कर होली पर घर जाने की योजना बना डाली
    बहूत खूबसूरत

    ReplyDelete
  44. hamne apki kai rachna padi bhut hi khubsurat... jivan har pahlu se judi hui,bhut apni-apni si lagti hai...

    ReplyDelete
  45. माँ कुम कुम ,माँ केशर कि क्यारी ,माँ हम सबको प्यारी
    माँ कि उपमा माँ ही माँ हम सब को प्यारी |.....

    ReplyDelete
  46. मेरी लड़ाई Corruption के खिलाफ है आपके साथ के बिना अधूरी है आप सभी मेरे ब्लॉग को follow करके और follow कराके मेरी मिम्मत बढ़ाये, और मेरा साथ दे ..

    ReplyDelete
  47. माँ की आवाज
    अंधेरों में सोते से
    अचानक जगाती है
    वह माँ जो मुझे
    लोरियां गाकर सुनती थी,
    पतली द विलेज जी बहुत सुन्दर कविता ,माँ की लोरियां वात्सल्य ममता होती ही ऐसे है जहाँ भी जिस पड़ाव पर रहो याद करो और खो जाओ यही आकांक्षा और आह्वान है माँ को कभी भी मत भूलो -आप मेरे ब्लॉग पर आये/आयीं सुन्दर लगा समर्थन भी दीजिये
    बधाई हो

    सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५

    ReplyDelete