Friday, August 13, 2010

आप की कहानी, मेरी जुबानी

आप खुबसूरत हैं,
कोई मानता नहीं, अलग बात है|
आप के पास दिमांग है,
चलता नहीं, अलग बात है|
आप निहायत सरीफ है,
लगते नहीं, अलग बात है|
आप के पास मोबाईल है,
उठाते नहीं , अलग बात है|
आप की इज्जत काफी है,
कोई करता नहीं, अलग बात है|
                                    हम याद करते रहते हैं,
                                    आप भुला देते हैं,अलग बात है|
                                   आप की बेइज्जती हो रही है,
                                   आप हँस रहे हैं, अलग बात है|
                                    के: आर: जोशी. (पाटली)

12 comments:

  1. दिमांग नहीं दिमाग होता है जी

    तीसरे पद को ऎसा लिखें-
    आप निहायत शरीफ़ लगते हैं
    हैं नहीं, ये अलग बात है।

    जय हो जोशी जी की
    होगी नहीं, यह अलग बात है।
    हा हा।

    ReplyDelete
  2. किलर झपटा जी गलती ठीक करने के लिए धन्यवाद्|

    ReplyDelete
  3. आपका ब्लाग सुंदर रंगों से सजा है और आप लगातार विविध विषयों पर लिख रहे हैं। इस सिलसिले को बनाये रखना जरूरी है।

    ReplyDelete
  4. Get your book published.. become an author..let the world know of your creativity or else get your own blog book!


    www.hummingwords.in

    ReplyDelete
  5. kahe ka gila shikva kis se
    kahe ki ldai jhgda hai
    tum mauj kro hm mauj kren
    ye hee jine ka nuksha hai

    ReplyDelete
  6. बहुत उम्दा लिखा है
    कोई माने या न माने
    अल्ग बात है !!!!

    ReplyDelete
  7. बढ़िया, अच्छी कविता साथ ही छोटी कहानियां भी....

    ReplyDelete
  8. amozon kaa add laga rakha hai kuch fayda huaa ki nahi
    आप के लिए ये फायदे मंद हो सकता है
    एक जाइये जरुर मेरे ब्लॉग पोस्ट
    http://paisa9.blogspot.com/2010/08/blog-post.html
    और आप के लिए उपयोगी जरुर होगा
    या फिर http://paisa9.blogspot.com/2010/08/blog-post.html

    ReplyDelete
  9. mazaa aa gayaa padhkar..........

    ReplyDelete